Main Ambedkar Bol Raha Hoon Ed. Dinkar Kumar

ISBN:

Published: August 17th 2014

Kindle Edition

224 pages


Description

Main Ambedkar Bol Raha Hoon  by  Ed. Dinkar Kumar

Main Ambedkar Bol Raha Hoon by Ed. Dinkar Kumar
August 17th 2014 | Kindle Edition | PDF, EPUB, FB2, DjVu, AUDIO, mp3, ZIP | 224 pages | ISBN: | 8.51 Mb

जो कुछ मैं कर सका, वह जीवन भर मुसीबतें सहन करके विरोधियों से टककर लेने के बाद कर पाया हूँ। जिस कारवाँ को आप यहाँ देख रहे हैं, उसे मैं अनेक कठिनाइयों से यहाँ ला पाया हूँ। अनेक अवरोधों, जो इसके मारग में आ सकते हैं, के बावजूद इस कारवाँ को बढते रहना है।Moreजो कुछ मैं कर सका, वह जीवन भर मुसीबतें सहन करके विरोधियों से टक्कर लेने के बाद कर पाया हूँ। जिस कारवाँ को आप यहाँ देख रहे हैं, उसे मैं अनेक कठिनाइयों से यहाँ ला पाया हूँ। अनेक अवरोधों, जो इसके मार्ग में आ सकते हैं, के बावजूद इस कारवाँ को बढ़ते रहना है। अगर मेरे अनुयायी इसे आगे ले जाने में असमर्थ रहे तो उन्हें इसे यहीं पर छोड़ देना चाहिए, जहाँ पर यह अब है- पर किन्हीं भी परिस्थितियों में इसे पीछे नहीं हटने देना है। मेरी जनता के लिए मेरा यही संदेश है।



Enter answer





Related Archive Books



Related Books


Comments

Comments for "Main Ambedkar Bol Raha Hoon":


wholeapproachforums.com

©2009-2015 | DMCA | Contact us